"मचान" ख्वाबो और खयालों का ठौर ठिकाना..................© सर्वाधिकार सुरक्षित 2010-2013....कुमार संतोष

मंगलवार, 26 जुलाई 2011

रात सरगोशी से जब ख्वाब चले आते हैं

रात सरगोशी से जब ख्वाब चले आते हैं
बीते  लम्हे वो  बेहिसाब  चले  आते  हैं

लोग  लाते   हैं   तेरे  पास किमती तोफ़े
ले कर हांथो में हम गुलाब चले आते हैं

टूटे प्यालो का गम होता है तो होता रहे
आँखो से पी कर हम शराब चले आते हैं

रोज़ मिलते हैं बन के गैर मुझे महफ़िल में
मुझे हर बार जलाने, जनाब चले आते हैं

19 टिप्‍पणियां:

  1. रोज़ मिलते हैं बन के गैर मुझे महफ़िल में
    मुझे हर बार जलाने, जनाब चले आते हैं
    Wah! Bahut badhiya!

    उत्तर देंहटाएं
  2. टूटे प्यालो का गम होता है तो होता रहे
    आँखो से पी कर हम शराब चले आते हैं

    बहुत बढ़िया...

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुक्रिया वन्दना जी, वीना जी, अनू जी, और kshama जी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह बहुत ही शानदार ।

    आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/
    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. भैया जी १ नंबर ----------
    रोज़ मिलते हैं बन के गैर मुझे महफ़िल में
    मुझे हर बार जलाने, जनाब चले आते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  6. रात सरगोशी से जब ख्वाब चले आते हैं
    बीते लम्हे वो बेहिसाब चले आते हैं

    ...bahut badiya prasuti.
    haardik shubhkamnyen!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बहुत शुक्रिया अनामिका जी, नीरज जी, चन्द्र भूषण जी, बंटी जी, कविता रावत जी, दिलबाग जी, और vidhya जी
    !

    उत्तर देंहटाएं
  9. जन्माष्टमी की शुभ कामनाएँ।

    कल 23/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. लोग लाते हैं तेरे पास किमती तोफ़े
    ले कर हांथो में हम गुलाब चले आते हैं

    क्या सादगी है ...वाह

    उत्तर देंहटाएं
  11. रोज़ मिलते हैं बन के गैर मुझे महफ़िल में
    मुझे हर बार जलाने, जनाब चले आते हैं...बहुत ही सुन्दर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  12. टूटे प्यालो का गम होता है तो होता रहे
    आँखो से पी कर हम शराब चले आते हैं

    बहुत खूबसूरत गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खूबसूरत गज़ल.....वाह

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत बहुत शुक्रिया यशवन्त माथुर जी, vandana जी, sushma 'आहुति' जी, संगीता स्वरुप जी,ana जी !!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रिया बहुमूल्य है !

Related Posts with Thumbnails