"मचान" ख्वाबो और खयालों का ठौर ठिकाना..................© सर्वाधिकार सुरक्षित 2010-2013....कुमार संतोष

शनिवार, 30 जुलाई 2011

मैं शायर हूँ, मुझे पत्थर दिल ना समझ लेना

"ज़ख्म ख़ामोश हैं जो हमने खाऐ थे ज़माने से

उसे हर पल कुरेदा ज़िन्दगी ने सौ बहाने से

मैं शायर हूँ, मुझे पत्थर दिल ना समझ लेना

कोई भी टूट सकता है इतना आज़माने से..."

6 टिप्‍पणियां:

  1. ज़ख्म ख़ामोश हैं जो हमने खाऐ थे ज़माने से

    उसे हर पल कूरेदा ज़िन्दगी ने सौ बहाने से

    मैं शायर हूँ, मुझे पत्थर दिल ना समझ लेना

    कोई भी टूट सकता है इतना आज़माने से
    kya kamaal kee rachana hai!

    उत्तर देंहटाएं
  2. waha bahut khub likha hai aapne ........


    बार बार अगर प्यार हो सकता है
    तो दिल भी बार बार टूटेगा ही ........आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब ... गम का दरिया समेट दिया है इस शेर में ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बहुत शुक्रिया दिगम्बर नासवा जी !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रिया बहुमूल्य है !

Related Posts with Thumbnails