"मचान" ख्वाबो और खयालों का ठौर ठिकाना..................© सर्वाधिकार सुरक्षित 2010-2013....कुमार संतोष

सोमवार, 22 अगस्त 2011

कोई रंज भी नहीं कोई मलाल भी नहीं

कोई रंज भी  नहीं कोई  मलाल भी नहीं
तेरी बेवफाई  पर कोई सवाल भी नहीं

मैं टूट के बिखर जाऊँगा सदा के लिए
तेरी महोब्बत में ऐसा बुरा हाल भी नहीं

कैसे यकीन कर लूँ मैं फिर से तुझ पर
ज़ख्म खाए गुज़रा एक साल भी नहीं

सुनते थे किस्से तुझ जैसे सितमगर के
तेरे सितम से बढ़कर मिसाल भी नहीं

11 टिप्‍पणियां:

  1. सुनते थे किस्से तुझ जैसे सितमगर के
    तेरे सितम से बढ़कर मिसाल भी नहीं
    Wah! Kya kamaal kee panktiyan hain!

    उत्तर देंहटाएं
  2. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. गज़ब की गज़ल है…………बेहद उम्दा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आ गई कमी कौन सी ,मेरे प्यार में |
    आया नसीब के के जो ,उजड़े दयार में ||
    anu

    उत्तर देंहटाएं
  5. .




    प्रियवर संतोष कुमार जी
    सस्नेहाभिवादन !

    बहुत जज़्बे के साथ लिखते हैं आप
    कोई रंज भी नहीं कोई मलाल भी नहीं
    तेरी बेवफाई पर कोई सवाल भी नहीं

    क्या बात कही है … ख़ूब !

    अच्छा है … लेकिन प्यास कुछ बाकी रह गई :)
    कोई बात नहीं … अगली बार के लिए कुछ शेष रहना भी ज़रूरी है …

    मिलते हैं जल्द ही

    मेरी ताज़ा पोस्ट पर आपका भी इंतज़ार है ,

    काग़जी था शेर कल , अब भेड़िया ख़ूंख़्वार है
    मेरी ग़लती का नतीज़ा ; ये मेरी सरकार है

    मेरी ख़िदमत के लिए मैंने बनाया ख़ुद इसे
    घर का जबरन् बन गया मालिक ; ये चौकीदार है

    पूरी रचना के लिए मेरे ब्लॉग पर पधारें … आपकी प्रतीक्षा रहेगी :)

    कुछ विलंब से ही सही…
    ♥ स्वतंत्रतादिवस सहित श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की भी हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं स्वीकार करें !♥
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  6. कैसे यकीन कर लूँ मैं फिर से तुझ पर
    ज़ख्म खाए गुज़रा एक साल भी नही
    क्या बात है क्या दर्द है.
    सचिन को भारत रत्न नहीं मिलना चाहिए. भावनाओ से परे तार्किक विश्लेषण हेतु पढ़ें और समर्थन दें- http://no-bharat-ratna-to-sachin.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. Aadarneye Kshama ji, kunwar ji, chandra bhushan ji, vandana ji, Anu ji, rajendra swarnkar ji, aap sabhi ka bahut bahut dhanywaad.

    उत्तर देंहटाएं
  8. dard ek miyad tak hi dard ki anubhuti deta hai aur jab apni miyad se jyada badh jata hai to uska insan itna aabhaasi ho jata hai ki dard ka ehsas hi khatam ho jata hai...ye gazel usi ehsas tak pahuch jane wali stithi ki dhyotak hai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैं टूट के बिखर जाऊँगा सदा के लिए
    तेरी महोब्बत में ऐसा बुरा हाल भी नहीं


    कैसे यकीन कर लूँ मैं फिर से तुझ पर
    ज़ख्म खाए गुज़रा एक साल भी नहीं

    सभी शेर खूबसूरत है...
    दर्द की भी अपनी खूबसूरती होती है..
    और उसे कैसे बयां करें..
    थोडा क्या बहुत मुश्किल होता है..
    लेकिन खूबसूरती बढ़ ही जाती है अंदाजे बयां कैसे हो...
    बस...
    सब उसी पर है...
    खूबसूरत और क्या...!!!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रिया बहुमूल्य है !

Related Posts with Thumbnails