"मचान" ख्वाबो और खयालों का ठौर ठिकाना..................© सर्वाधिकार सुरक्षित 2010-2013....कुमार संतोष

गुरुवार, 15 दिसंबर 2011

तुम्हे भी याद सताती होगी

तुम्हे भी याद सताती होगी
पुरवईया जब आती होगी
अम्बिया की डाली पर बैठी
जब भी कोयल गाती होगी
सांझ ढले जब चाँद फलक पे
चुपके से आ जाता होगा
घर, आँगन तुलसी के आगे
तुम जब दीप जलाती होगी

तुम्हे भी याद सताती होगी
पुरवईया जब आती होगी

जब मंदिर में फूल चढाने
नंगे पावं बढाती होगी
जब ऊँची घंटी तक तेरे
हाँथ नहीं पहुचते होंगे
पंडित से लगवाने टीका
जब तू सर को झुकाती होगी
अपने संग मुझे न पाकर
आँख तेरी भर जाती होगी
   
तुम्हे भी याद सताती होगी
पुरवईया जब आती होगी

हाँथ पे मेहँदी से जब सखियाँ
नाम मेरा लिख जाती होंगी 
तेरा दुपट्टा जब भी सर से
काँधे पर ढल जाता होगा
और आंटे से सने हाँथ से
रोटी जब तू बनाती होगी
आँचल को सर पर रखने को
जब आवाज़ लगाती होगी

तुम्हे भी याद सताती होगी
पुरवईया जब आती होगी

जब माथे पर ले कर मटका
पनघट से तुम आती होगी
जब भी सावन आता होगा
झूले जब भी पड़ते होंगे
संग सखियों के बैठ हिंडोले
जब तुम पींग बढाती होगी
दूर कहीं बंसी की धुन फिर
मेरी याद दिलाती होगी

तुम्हे भी याद सताती होगी
पुरवईया जब आती होगी

बारिश के मौसम में जब
बादल से बूंद बरसती होगी
आँगन, गलियां, खेत, गाँव जब
पानी से भर जाते होंगे
और जाड़े की कड़क ठण्ड में
सर्दी जब बढ़ जाती होगी
बैठ अंगीठी के आगे तुम
जब जब आग सुलगाती होगी


तुम्हे भी याद सताती होगी
पुरवईया जब आती होगी
अम्बिया की डाली पर बैठी
जब भी कोयल गाती होगी

31 टिप्‍पणियां:

  1. बारिश के मौसम में जब
    बादल से बूंद बरसती होगी
    आँगन, गलियां, खेत, गाँव जब
    पानी से भर जाते होंगे
    और जाड़े की कड़क ठण्ड में
    सर्दी जब बढ़ जाती होगी....
    बहुत हे सुंदर प्यार कि रंगों मेन जुदाई के भाव से सजी सुंदर रचना समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है।
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत रचना के लिए बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही खुबसूरत और कोमल भावो की अभिवयक्ति......

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी रचना के लिए बधाई,......

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    सब कुछ जनता जान गई ,इनके कर्म उजागर है
    चुल्लू भर जनता के हिस्से,इनके हिस्से सागर है,
    छल का सूरज डूबेगा , नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें है तुमने, जनता सबक सिखायेगी,


    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत कोमल भावों से रची सुन्दर रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. कविता में प्रयुक्त बिम्ब मन मोहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर और भावुक प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  8. सबसे पहले हमारे ब्लॉग 'जज्बात....दिल से दिल तक' पर आपकी टिप्पणी का तहेदिल से शुक्रिया.........आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ...........पहली ही पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब...........आज ही आपको फॉलो कर रहा हूँ ताकि आगे भी साथ बना रहे|

    कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए- (अरे हाँ भई, सन्डे को भी)

    http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
    http://khaleelzibran.blogspot.com/
    http://qalamkasipahi.blogspot.com/


    एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये|

    उत्तर देंहटाएं
  9. Lajawab .. Dil mein utar jaata hai aapke ye geet Santoshji .... Bhavnaaon ka sagar ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहद खुबसूरत लिखा है . याद ऐसी ही होती है .

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप सभी लोगों का तहे दिल से शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  12. इन्तेज़ार की बेकरारी में डूबे सुन्दर जज़्बात ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. हाँथ पे मेहँदी से जब सखियाँ
    नाम मेरा लिख जाती होंगी
    तेरा दुपट्टा जब भी सर से
    काँधे पर ढल जाता होगा
    और आंटे से सने हाँथ से
    रोटी जब तू बनाती होगी
    आँचल को सर पर रखने को
    जब आवाज़ लगाती होगी

    तुम्हे भी याद सताती होगी
    पुरवईया जब आती होगी.....

    Wonderful creation !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  14. earlier I was thinking that you write gazals only but after reading your poem, I have to say that you write beautiful poems too;;
    like it;; nice one;;

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह ...बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. भला इस पुरवईया को कौन भूल सकता है. आपके ब्लॉग का नाम मचान जो है, वाकई मन को आकर्षित कर लेता है. आपने बचपन की याद दिला दी जो इन पर ही न जाने कितने समय बीते. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति....

    शहर कब्बो रास न आईल
    साहब का कुत्ता

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह!!!!!बहुत सुंदर कविता,...अच्छी पोस्ट....

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    आफिस में क्लर्क का, व्यापार में संपर्क का.
    जीवन में वर्क का, रेखाओं में कर्क का,
    कवि में बिहारी का, कथा में तिवारी का,
    सभा में दरवारी का,भोजन में तरकारी का.
    महत्व है,...
    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  18. ये 'पुरवैया' शब्द सुनते ही न जाने क्यूँ भारतीय जन-मानस अचानक ही भाव-विभोर हो उठता है। सुंदर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह ... बहुत खूब ...इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुंदर भाव . बेहतरीन प्रस्‍तुति...बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  21. आप सभी गुनीजनो का तहे दिल से शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  22. अनूठी रचना.वाह,क्या बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. BAHUT HI SUNDAR es blog par der se pahooncha par aab regular rahoonga touch main.

    उत्तर देंहटाएं
  24. और जाड़े की कड़क ठण्ड में
    सर्दी जब बढ़ जाती होगी
    बैठ अंगीठी के आगे तुम
    जब जब आग सुलगाती होगी
    vah .... santosh ji ap ne to shama badh diya ... badhai .

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रिया बहुमूल्य है !

Related Posts with Thumbnails