"मचान" ख्वाबो और खयालों का ठौर ठिकाना..................© सर्वाधिकार सुरक्षित 2010-2013....कुमार संतोष

रविवार, 5 सितंबर 2010

चंद लफ़्ज़ों में डूबी इश्क की दास्ताँ

चंद लफ़्ज़ों में डूबी इश्क की दास्ताँ 
लिखने बैठूं तो पूरी स्याही ख़त्म हो जाएगी 
वो उनके चेहरे पर मंद मंद सी मुस्कराहट 
समेटने बैठूं तो पूरी जिंदगी ख़तम हो जाएगी
एक रोज़ यों ही मुलाक़ात हो गई राह में
अजनबी थे मगर कुछ तो था दोनों के एहसास में
आते जाते अक्सर मुलाकाते होने लगी 
जान पहचान बढ़ी फिर बातें होने लगी
अब जब भी मिलते थे घंटो बात किया करते थे
एक दुसरे की आँखों में सपने पाला करते थे
न वक़्त के गुजरने का होश,
न ही दिन के ढलने का ख्याल 
दिल बस यही सोंचता 
की कब रात ढले और कब उनका दीदार हो
कब उनके लब खुलें
कब बारिश मुसलाधार हो
दोनों की नजदीकियाँ बढ़ने लगी
दोनों का खुमार बढ़ने लगा 
कुछ पता नहीं चला कब दोनों में प्यार बढ़ने लगा 
न ही भूख लगने की फ़िक्र 
न ही किसी काम का होश 
चंद मिनटों के लिए कुछ कहते
फिर घंटो तक खामोश 
दिन जैसे बड़ी तेजी से पंख लगा उड़ता जा रहा था
और वो बस एक दुसरे की आँखों में अपना सपना सजाने लगे थे
खयालो में जीना, सपने सजाना
तस्सवूर में खोना, वो रूठना मानना 
अल्ल्हड़ वो मस्ती, वो शोख जवानी
नदी का किनारा, वो झरने का पानी
न कुछ थी खबर, न होश कहीं था
बस वो थे वही थे कोई और नहीं था 
मगर जाने कहाँ से वो आंधी थी आई 
कुछ ग़लतफहमी झोंको ने सपने बिखेरे 
भरोसा था उनका वो टुटा वहीँ पर 
जिंदगी के शुरू फिर वो गहरे अँधेरे
आज फिर से उनकी जिंदगी में एक सूनापन है 
आज फिर उनकी तनहाइयों में वीरानापन है
वो बेबस हैं बैठे, और सोंचते ये रहते 
क्या ? प्यार था उनका
जो ग़लतफहमी से टूटा 
क्या ? भरोसा था उनका
ये बंधन जो छूटा
जाने अनजाने अपने ही मैं में
उन हसीं लम्हों को 
पनपने से पहले ही दफना दिया उन्होंने !!

9 टिप्‍पणियां:

  1. कहीं कोई ना कोई प्यार में कमी रही होगी,
    कहीं कोई ना कोई जगह खाली रही होगी,
    जो संदेह ने पाँव फैलाए थे...
    वर्ना भगवान की भी क्या बिसात
    जो प्यार करने वालों के प्यार
    उनके चाहने से पहले दफ़न हो जाएँ.

    बहुत सुंदर एहसासों से सजी है आपकी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्रिया अनामिका जी मेरे ब्लॉग को अपनी टिप्पणियों से धन्य करने के लिए.
    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  3. पूरी इश्क की दास्ताँ बयाँ कर दी आपकी इस कविता ने| सुन्दर लेखन के लिए बधाई|
    ब्रह्माण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  4. kya baat...kya baat...kya baat....
    shandaar ,aage badhiye aur chha jaiye!

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी पंक्तिया लिखी है आपने .....
    .....
    (आजकल तो मौत भी झूट बोलती है ....)
    http://oshotheone.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज फिर से उनकी जिंदगी में एक सूनापन है आज फिर उनकी तनहाइयों में वीरानापन है वो बेबस हैं बैठे, और सोंचते ये रहते
    bahut badiya... maza aa gaya pad kar....

    A Silent Silence : Ek bejurm sazaa..(एक बेजुर्म सज़ा..)

    Banned Area News : 11 hrs of meditation may boost brain function

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर।

    हिंदी पुस्तकें, उपन्यास, कहानियां इत्यादि मुफ्त डाउनलोड करने के लिए 'अपनी हिंदी' पर पधारें।
    पता है:
    www.ApniHindi.com

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रिया बहुमूल्य है !

Related Posts with Thumbnails